पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान पर प्रतिवर्ष महासम्मेलन (गव्य मेला)

सर्व विदित है कि हमारे देश कि गाय साक्षत लक्ष्मी है। आज के संदर्भ में लक्ष्मी की व्याख्या रूपये, पैसे से की जा रही है। इस संदर्भ में भी एक देशी गाय को देखें तो वह अकेली प्रति माह लाखों रूपये देने में सक्षम है। इस विषय पर पिछले 15 वर्षों से महर्षि वागभट्ट गौशाला स्थित ‘पंचगव्य अनुसंधान केन्द्र’ में शोधकार्य चल रहें हैं।। इस दौरान किये गये हजारों प्रयोग सत्यापित करते हैं कि एक देशी गाय प्रतिदिन गौबर, गौमूत्र और दूध के माध्यम से लगभग 3 हजार रूपये की अमृत जीवन रक्षक औषधियां प्रदान करती है।

प्रथम समूह के गव्यसिद्ध डॉ. प्रथम महासम्मेलन में

प्रथम समूह के गव्यसिद्ध डॉ. प्रथम महासम्मेलन में

पंचगव्य औषधियों से पिछले 15 वर्षों से लगभग 30 हजार मरीजों पर अभ्यास करके देखा गया कि सभी असाध्य कहीं जाने वाली बीमारियां ठीक हो रही हैं.

अमर शहीद राजीव भाई का सपना था की भारत की गोमाता दान और दया पर नहीं बल्कि स्वावलंबी व्यवस्था पर निर्भर होनी चाहिए. इसी सोंच के साथ गाय के प्रति उनकी कर्तव्य निष्ठा साकार करने के लिए वर्ष 2012 में भारत सरकार के संददीय मण्डल द्वारा संचालित भारत सेवक समाज के सहयोग से पंचगव्य चिकित्सा पाठ्यक्रम का शुभारम्भ इंडियन सेल थेरेपी इंस्टिट्यूट, मदुरै के साथ मिलकर पंचगव्य गुरुकुलम ने किया. जिसके अंतरर्गत सर्वप्रथम 3 तरह के पाठ्यक्रम शुरू किये गए. 1) मास्टर डिप्लोमा इन पंचगव्य थैरेपी, 2) डिप्लोमा इन पंचगव्य थैरेपी और 3) सर्टिफिकेट कोर्स इन पंचगव्य थैरेपी।

इन पाठ्यक्रमों से पढ़कर दीक्षांत हुए गव्यसिद्ध डॉक्टर अपने-अपने क्षेत्र में असाध्य रोगों से पीड़ित रोगियों की चिकित्सा करके असाध्य रोगों से लोगों को स्वास्थ्य प्रदान कर रहें हैं। इस दौरान कई ऐसी बीमारियों कि चिकित्सा संभव हो सकी है जिसके बारे में दुनिया के सभी चिकित्सा पद्धति मौन हैं. हम चाहते है कि ऐसे अद्भुत परिणाम और अभ्यास के बारे में दुनिया के लोग जाने, भारतीय गाय की महिमा को पहचाने और कल तक जिस गाय को केवल हिन्दू धर्म का विषय बताया जाता था, उसमें अब असाध्य बीमारियों की चिकित्सा देखें.

वह समय अब दूर नहीं जब ऋषि सुश्रुत की पौराणिक शल्य चिकित्सा हमारे गाय की महत्ता से फिर से अग्रसर होगी। पंचगव्य अनुसंधान की देख-रेख में कई ऐलोपैथी शास्त्र के सर्जन डाॅक्टर इस काम में लगे हुए है और उन्हें 90 प्रतिशत तक सफलता मिली है। आशा है की 2016 तक पंचगव्य के माध्यम से भारत में शल्य चिकित्सा का मार्ग भी प्रशस्त होगा.

पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान का यह अभ्यास दुनिया के सामने लाने का प्रयास ही पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन है. इसे प्रत्येक वर्ष भारत के अलग – अलग राज्यों में अमर बलिदानी राजीव भाई के पूण्य और जन्म तिथि (काल भैरव अष्टमी) के दिन किया जाता है.  तीन दिवसीय प्रथम चिकित्सा महासम्मलेन का आयोजन वर्ष 2013 में  द्रविड़ भूमि के कांचीपुरम स्थित महर्षि वाग्भट गोशाला और चेन्नै में  किया गया था.  इस क्षेत्र के स्थल पूरण के अनुसार यहाँ सतयुग में ऋषि अत्री,  ऋषि भारदवाज, ऋषि अगस्त,  ऋषि  कश्यप एवं ऋषि भृगु की तपोस्थली रही है। जिसमें महर्षि वाग्भट्ट गौशाला परिसर ऋषियों कि वनस्पति उद्यान एवं प्रयोगशाला रह चुका है।

सम्मलेन में उपस्थित गव्यसिद्ध डॉ. व् विद्यार्थी

सम्मलेन में उपस्थित गव्यसिद्ध डॉ. व् विद्यार्थी

सम्मेलन में पंचगव्य चिकित्सा के क्षेत्र में काम कर रहे विद्यार्थी, गव्यसिद्ध डॉ अपने अनुभवों का संवाद प्रस्तुत करते हैं एवं विडियों प्रदर्शनी के माध्यम से पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान पर प्रकाश डालते हैं. अन्य थेरेपी के डॉ को भी अवगत कराया जाता है की असाध्य बीमारियों में पंचगव्य का कैसे उपयोग कर सकते हैं. असाध्य रोगों  पर लघु फिल्म भी दिखाई जाति है.  कुछ दुर्लभ बिमारी वाले रोगी अपने अनुभवों को भी रखते हैं.

अनुसंधान केन्द्र की भावी योजना है कि इस प्रकार के चिकित्सा महासम्मेलन भारत के सभी नगरों में किया जाना चाहिए। अतः प्रति वर्ष भारत के विभिन्न नगरों में ऐसे चिकित्सा महासम्मेलन किये जायेंगी। जिस किसी भाई को अपने प्रदेश में सम्मेलन करवाना हो मोबाइल 09444 03 47 23  सम्पर्क कर सकते हैं।

इस सम्मेलन में भाग लेने वाले प्रतिनिधियों को अनुभव प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता है. जो विशेषज्ञ पंचगव्य की औषधियों पर अनुसंधान पत्र प्रस्तुत करते हैं उन्हें सम्मानित / पुरस्कृत भी किया जाता है.

पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन में प्रति वर्ष 5 स्वर्ण पुरस्कार (नकद/स्वर्ण प्लेटिंग स्मृति चिन्ह) प्रदान किये जाते हैं. साथ ही अन्य पुरस्कार भी प्रदान किये जाते हैं. ये सभी पुरस्कार 5 अलग – अलग विषयों पर विशेष कार्य करने वाले गव्यसिद्धों को प्रदान किये जाते हैं.

1) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य चिकित्सा सेवा सम्मान
2) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य चिकित्सालय सम्मान
3) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य विज्ञानी सेवा सम्मान
4) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य प्रचारक सम्मान
5) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य उत्पादक सम्मान

इसके अलावा भी कई सम्मान दिए जाते हैं. जैसे

1) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य पत्नी सम्मान
2) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य सिद्धर सम्मान (पुराने गव्यसिद्ध्ररों में से.)
3) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य परिवार सम्मान

इतना ही नहीं, सम्मलेन के नियोजन के निमित्त भी कई सम्मान दिए जाते हैं. इसी दोरान अगले महासम्मेलन की घोषणा भी की जाती है.

1) पहला महासम्मेलन कट्टावक्कम (कांचीपुरम) और चेन्नै में हुआ.
2) द्वितीये महासम्मेलन औदुम्बर (महाराष्ट्र) और सांगली में हुआ.
3) तृतीये महासम्मेलन पुष्कर (राजस्थान) में होने जा रहा है. (4-6 दिसंबर 2015)
4) चतुर्थ महासम्मेलन (गुजरात) में होने तय है.

56 Responses

  1. panchgavya hi hamari atma ayr sharir ki sudhi kar sakata hai

  2. गुरुजी सादर प्रणाम….
    बेबसाईट का नया स्वरूप सुंदर,सरल और खुलनेमे गतिमान है यह मेरा अनुभव है.
    नयी विस्तारित नालंदा विश्वविद्यालय की जानकारी अती उपयुक्त है.
    हरिः ॐ
    आपका गव्यसिध्द
    आमोद

  3. Abi jaldi hi hum ashli bharat bana lege

  4. our batch no 5 MD in panchgavya therapy last exam is first or Pushkar conferences is first
    I confuse
    when I get Certificate

  5. guruji chennai me baat karne ke lie koi contact no. deve taki new course ki jankari le saku . website pe koi bhi no. show nhi ho rha

  6. समस्या:   गर्भवती स्त्री  रोज सुबह चंदी की कटोरी वाला दही खाए तो कोई दिक्कत तो नही

    क्यों की यंहा   की  लोकल दाई  और  ओरते    मेरी पत्नी को डरा रहे हे की

    दही खाए गी तो बच्चे के उपर जमेगा और  डिलेवरी के समय  दिक्कत होगी……और  घी भी….

    उनको केसे समझाया जाये…..

    ..मेरी पत्नी का  हिमोग्लोबिन  3सरे महीने में “11” था  6वे महीने में “9.8”

    और अभी  8वे की शुरू आत में “8.4”  ही हे

    इसलिए   मेरे ससुराल  वाले   जबरदस्ती  अंग्रेजी दवाई खाने के लिए मेंटली  परेशां कर रहे हे  उसको

    • यदि देसी गोमाता के दूध का दही है तो इस मोसम में कोई हानी नहीं है.
      घी भी दे सकते हैं.
      6 माह के बाद हिमोग्लोबिन गिरना कोई बीमारी नहीं है.
      घी दूध में दल कर पिलाइए.

  7. देशी गोमाता का ही दूध घी दही हे……

    15-20 अगस्त तक डिलेवरी होगी….क्या तब तक चांदी की कटोरी वाला दही रोज सुबह चलने दे(क्यों की मोसम चेंज होगा)

    2) घी रोज एक चम्मच ,1ग्लास दूध में डाल कर रात को ले रहे हे

    3) नोर्मल डिलेवरी के चांस ज्यादा रहे इसके लिए भी कोई उपाय हो तो बताइए…….

    #यंहा की लोककल दाइ तो दूध दही घी 3नो को मना बोल रही हे…..पता नही उसे गलत ज्ञान किसने दिया

    लोकल दाइ तिल में गुड डाल कर कूट-पिस कर लड्डू बना के रोज थोडा थोडा खाने को बोल रही हे

    • तिल में गुड डाल कर कूट-पिस कर लड्डू बना के रोज थोडा थोडा खाने को बोल रही हे – Sahi hai.

  8. GURUJI Pranam,
    2016 me honewala mahasammelan kab aur kaha par honewala hai ?
    Krupaya bataye.

  9. पंचगव्य से नोर्मल डिलेवरी की पूरी जानकारी सभी सावधानियो सहित बताइए…

    भविष्य के लिए:-
    मेरा तो यह सुझाव हे की websait पर एक लेख उप्ल्भ्ध कर्वैय
    जिसमे
    …पंचगव्य से सिद्ध संतान प्रप्ति की पूरी जानकारी हो(गर्भाधान के पूर्व से और डेलिवरी के पश्चात तक…) ताकि जन्म से आने वाली पीडी पर गो कृपा बनी रहे

    • Bada vishay hai, Sambhav nahi hai.

      • ठीक हे

        पर नोर्मल डिलेवरी के लिए गोबर + गोमूत्र वाले फार्मूले पर तो प्रकाश डालिए

        की कब केसे और कितनी बार लेना हे

        मात्रा कितनी रखनी हे

        आदि आदि

        बहुत जरुरी हे……

        जय गोमाता की

  10. Gurujee,Sadar Pranam,

    Krupaya Panchagavgya Sammelan Dwarika 2016 ki puri rupresha krbare me prakash dale.

    DILIP PATIL, PUNE

  11. क्या चुकन्दर से वाकई में खून बढता हे

    या ये सिर्फ धोका हे

  12. 15 दीन का बालक बीमार था माँ को दूध नहीं उतर रहा था तो कमजोर होगया था

    आपने कहा था की ठीक होने के बाद पंचगव्य पिलाना

    अब बताइए की पंचगव्य केसे और कितना पिलाना हेविधि

    क्या पंचगव्य घर्त पिला सकते हे….

    जब से बीमार हुआ था तब से 5-5 बूंद बलपल रस पिला रहे हे…..आज 10-12 दिन होगये पिलाते हुए…

    कल रात से बालक के पेट में दर्ड हे ओर गुड गुड की आवाज आरही हे….9827909174

    • ठीक होने के बाद पंचगव्य पिलाना aisa maine nahi kaha tha.
      Aap yahan se puchh kar kuchh or prayog karate ho.
      Aapke prashno ka uttar nahi diya ja sakata.
      Pahale Gomaata or panchgavya me puri shradha laiye.

      • आपने कहा था नजदीकी डॉ को दिखाये इमरजेंसी में….क्यों की बच्चा ज्यादा कमजोर होगया था उलटी दस्त से 10 दिन का ही था वो

        और कहा था ठीक होने के बाद पंचगव्य पिलाना….

        बाल पल रस हमने इसलिए पिलाया ताकि उलटी दस्त में फायदा हो

        कुछ भूल हुई हो तो छमा करे
        ।।।।।।हमे गो माता पर पूर्ण विश्वाश हे…….हमने 9 महीने कोई एलोप्र्थी नही दिय।।।।।देशी गाय का दूध घी और सुभह चांदी की कटोरी वाला दही खिलाया

        क्रप्या मार्गदर्शन करे

  13. Guru ji RMP panjiyan ke liye form jama kar diya the shulk bhi jama kar 24500 mail apko kar diye hai prapt huva hai kya margdarshan kare Madhubala Sahu c.g. 09893423651

  14. पूज्य गुरूजी,
    सादर प्रणाम।
    मैं चेतनकुमार विजयकुमार भागवत(जैन),परभणी(महाराष्ट्र ).
    गव्यसिद्ध (M.D.-Panchgavya) अड्मिशन के बारे में आप के SBI बैँक खाते में (31944576785)दो चेक जमा करवा दिए है।
    चेक नं.007189-₹8800/- (31/05/2016)और चेक नं.007208-₹7000/-(27/06/2016)

    आपका आज्ञाकारी छात्र

    चेतनकुमार विजयकुमार भागवत(जैन),
    परभणी(महाराष्ट्र)

  15. Guruji pranam
    ye chathurth mahasammelan dwarka ke liye on line registration ho nahi raha h ji. Form not submit kah rahah h. Mane reg fee acc. me deposite bhi kar di h ji. Uski copy bhi attach kar raha hu form me par nahi ho raha h ji.

  16. Guruji pranam
    ji bahut dhanyawad m contact karta hu ji

  17. Namastey guruji, Aapka Uttar nahi Aaya hai kripya batayein dhanyawad.

  18. Mahasammelan ka aayojan aur niyojan ekadam badhiya,magar chikista ke naye shodh par koi charcha nahi.

    Ashok Patil.Ratnagiri Maharashtra

  19. Guruji parnam
    My mother is 60 years old l. She is suffering from Motia Bindu. She took medicines from you 6 months earlier. At starting every thing was okay but as time passed she had pain in her eyes and eyes appeared to be foggy.
    She also took nostril drops. She is taking from 2 months. She used eye drops 4 times a day and nostril drops 2 times a day. Medicines are finished . She consulted doctors about this, and they are re saying that operation is necessary. I’m very worried & confused.
    I belive in the spirit of GAU -MATA. Guruji please can you suggest us. We ll be very thankful to u.

    Guruji ko sadar parnam

  20. Guru ji yadi aap ka Delhi side me koi sammelan hai to kripya karke hame batain.

  21. गुरुजी हरि ॐ
    द्वारका महासम्मेलन अति अद्भूत हुआ इसके आयोजन के लिए आपको कोटिश: प्रणाम।
    अगला महासम्मेलन हमारे हरियाणा मेँ बहुत धमाके के साथ करना है हमेँ।
    आपका गव्यसिद्ध शिष्य
    गौरी शंकर

  22. bara jankinath mandir,rewasadham,gurukul n gaushala me panchgavya gurukul open karne ke liye kya niyam hi,please inform me,dhanyavad.

  23. JAI GURU DEV AAP KO SADAR PRNAM MERA SAMSAYA YAH HAI KI MARIG K KABHI KAHI JALN HOTA HAI UPAY BATAY

  24. गुरू जी गौमाता जी के लिए हमें एक होना है

  25. Mul udessey gomata ji ko bachana h hamara lakshy

    Gomata ji ko bachane k liy pure desh ko ek hona hi padega

    Gomata ji saksha Se hi desh ki raksha ho sakegi

  26. गुरु जी प्रणाम अगला महासमेलन हरियाणा कुरुक्षेत्र में निर्धारित हुआ ह या नही क्रप्या बातये
    आपका शिष्य गव्यसिद्ध विजय

Leave a Reply

Home पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान पर प्रतिवर्ष महासम्मेलन (गव्य मेला)

Copyright © 2015 Panchgavya Gurukulam. All writes are reserved under Panchgavya Gurukulam. / E-branding by Noble Tech

guyglodis learningwarereviews humanscaleseating Cheap NFL Jerseys Cheap Jerseys Wholesale NFL Jerseys arizonacardinalsjerseyspop cheapjerseysbands.com cheapjerseyslan.com cheapjerseysband.com cheapjerseysgest.com cheapjerseysgests.com cheapnfljerseysbands.com cheapnfljerseyslan.com cheapnfljerseysband.com cheapnfljerseysgest.com cheapnfljerseysgests.com wholesalenfljerseysbands.com wholesalenfljerseyslan.com wholesalenfljerseysband.com wholesalenfljerseysgest.com wholesalenfljerseysgests.com wholesalejerseysbands.com wholesalejerseyslan.com wholesalejerseysband.com wholesalejerseysgest.com wholesalejerseysgests.com atlantafalconsjerseyspop baltimoreravensjerseyspop buffalobillsjerseyspop carolinapanthersjerseyspop chicagobearsjerseyspop cincinnatibengalsjerseyspop clevelandbrownsjerseyspop dallascowboysjerseyspop denverbroncosjerseyspop detroitlionsjerseyspop greenbaypackersjerseyspop houstontexansjerseyspop indianapoliscoltsjerseyspop jacksonvillejaguarsjerseyspop kansascitychiefsjerseyspop miamidolphinsjerseyspop minnesotavikingsjerseyspop newenglandpatriotsjerseyspop neworleanssaintsjerseyspop newyorkgiantsjerseyspop newyorkjetsjerseyspop oaklandraidersjerseyspop philadelphiaeaglesjerseyspop pittsburghsteelersjerseyspop sandiegochargersjerseyspop sanfrancisco49ersjerseyspop seattleseahawksjerseyspop losangelesramsjerseyspop tampabaybuccaneersjerseyspop tennesseetitansjerseyspop washingtonredskinsjerseyspop