icon
icon
icon
icon
icon
icon
icon
  • इस वर्ष का पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन 2014, सांगली / औदुम्बर में 14-16 नवम्बर को आयोजित किया गया है. इसमे भाग लेकर भारत में फिर से गौ आधारित (पंचगव्य चिकित्सा) संस्कृति स्थापित करने की दिशा में आगे बढ़ें.
  • सर्वप्रथम हमने पाठ्यक्रम बना कर "पंचगव्य चिकित्सा शिक्षा" जो एक सम्पूर्ण चिकित्सा पद्धति है भारत सरकार के संसदीय बोर्ड (भारत सेवक समाज) से पंजीकृत कराया है, अतः किसी के बहकावे में आकर अपना समय नष्ट न करें.
  • एम डी (पंचगव्य) के लिए नामांकन जारी है. योग्यता +2 अथवा 10 वीं, प्रायोगिक कक्षा 5 दिसंबर से शुरु. जल्दी करें.

आप सभी का स्वागत है “पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन 2014″ में.

डाऊनलोड  करने  के लिये यहां क्लिक करे ।

invitation-1-web

invitation-2-web

पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन में पहुँचने के लिए इसे पढ़ें

पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन में पहुँचने के लिए नजदीक स्टेशन सांगली और मिरज जंक्शन है. जो की पुणे / बेलगाम (बेलगाव) /हुबली – मार्ग पर स्थित है. 14 – 15 नवम्बर का कार्यक्रम औदुम्बर (सांगली) में है.जो की सांगली और मिरज से उत्तर दिशा में पुणे की और 30 कि. मी. दूर है. मिरज जंक्सन सांगली से पूर्व दिशा में ९ कि. मी. दुरी पर है.

यहाँ तक आने के लिए उत्तर भारत से सीधा “भिलवडी, सांगली स्टेशन या फिर मिरज जंक्सन तक टिकेट आरक्षित कर ले. उपरोक्त स्टेशन तक के लिए ट्रेन न हो तो “ पुणे ” तक का टिकेट लें. वहां से दूसरे ट्रेन से सांगली / मिराज का टिकेट आरक्षितकराएँ. आप “ पुणे ” से बस से भी आ सकते है बस से आप को लगभग 6 घंटे का समय लगेगा. औदुंबर उतरने के लिए आप बस से सांगली से 20 कि. मी. पहले “आष्टागाँव” में उतर सकते है.आष्टा गाँव से औदुम्बर 13 किलोमीटर है. प्रातः 7 बजे से सायं 7 बजे तक ऑटो सवारी मिलाती है. भाडा 15 रुपये प्रति सवारी है.

तृतीय दिवस और समापन दिन का कार्यक्रम सांगली में है. दुसरे दिन के अंतिम सत्र समाप्त होने के बाद औदुंबर से सांगली आने की व्यवस्था महासम्मलेन आयोजक समिति द्वारा की गयी है. आप अपनी वापसी टिकट अपने रूट के हिसाब से सांगली या मिरज जंक्सन से बनवाएं. 16 नवम्बर को रात्रि 7 बजे के बाद सांगली या मिरज जंक्सन से वापसी यात्रा का टिकट बनवाएं.

अगर आपकी ट्रेन पुणे जंक्सन से कनेक्टिंग है तो आप रात ११ बजे के बाद पुणे जंक्सन से वापसी टिकट बनवाएं. जिनकी ट्रेन 17 नवम्बर को सुबह / दोपहर को होगी, मात्र उनके लिए सांगली में 16 नवम्बर की रात निवास व भोजन की व्यवस्था होगी. सांगली

पहुँचने सम्बन्धी कोई अन्य जानकारी के लिए संपर्क करें -

दिनेश जाजल – 09 370 84 24 29 एवं चेतन गोसावी 099 70 25 58 10  maharashtramap

कुछ जरुरी निर्देश 1) गर्म कपडे / जरुरी दवाइयां / लिखने के लिए कागज और कलम लाना नहीं भूलें. 2) गव्यसिद्ध साथ में कुछ पैसे लायें ताकि दुर्लभ वनस्पतियाँ जो सामान्य रूप से शुद्ध नहीं मिलाती उसकी व्यवस्था की गए है. जिसे आप खरीद सकेंगे. 3) पंचगव्य औषधियाँ बनाने के लिए छोटे छोटे उपकरण भी बनवाये गए हैं. जो बिक्री के लिए उपलब्ध रहेगा. जैसे अर्क बनाने के उपकरण, गोबर रस निकालने का मशीन आदि. 4) पंचगव्य से सम्बंधित साहित्य / सीडी आदि भी बिक्री के लिए उपलब्ध होगा.

व्दितीय पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन 2nd PANCHGAVYA MEDICAL CONFERENCE

14-16 नवंबर 2014 काल भैरव अष्टमी को होगा। 14-16 Novembar 2014 Kal Bhairav Astami.
अ॰ ब॰ राजीव भाई के जन्म व प॰पू॰ तुकाराम दादा की 100 वीं जन्म जयंती पर।
Occasion – Birth day of A.B. Rajiiv Dixit & P.P.Tukaram Dada 100th Birth Anniversary.
स्थल: सांगली (16) / औदुंबर (14-15), महाराष्ट्र।
Place : Sangali (16) / Audumbar (14-15) Maharastra. Bharat.
संपर्क ईमेल : gomaata@gmail.com॰ सेल / एसएमएस – 09444 03 47 23.
पहला महासम्मेलन 25-27 नवंबर 2013 काल भैरव अष्टमी को सम्पन्न हुआ।
चेन्नै चिकित्सालय – सी यू शाह भवन, वेपेरी, चेन्नै – 7
जहां  पंचगव्य चिकित्सा के लिए अलग से कौंसिल बनाने की मांग रखी गई।
पंचगव्य चिकित्सा के डॉक्टरों के लिए एक संघ बनाने की मांग रखी गई।
जो की मई 2014 पंजीकृत कर पूरा किया गया.

“अखिल भारतीय पंचगव्य चिकित्सक संघ” (पंचिस) का गठन हुआ। – पंजिकृत
“All india panchgavya medical practitioner association” -
Registered First PANCHGAVYA MEDICAL JOURNAL coming soon.
Gavyasidha Dr.’s are invited for research articles, Articles size max 800 words. inclose photo related with articles.
U may send through mail – gavyasidha@gmail.com

अखिल भारतीए पंचगव्य चिकित्सक संघ (पं.) PANCHGAVYA CHIKITSAK SANGH (Reg.)

”पंचिस” की प्रथम कमान इनके हाथों में है.
संस्थापक अध्यक्ष – गव्यसिद्धाचार्य डॉ.  निरंजन कु वर्मा, ए.ए.टी. (तना) ए एम, एम.डी. पञ्चगव्य एवं सेल थेरेपी (भारतीय चिकित्सा विद्या)
Founder President – Gavyasidhacharya Dr. Niranjan k Verma, AAT(TN)AM, MD Panchgavya & Cell Therapy (Indian System of medicine)

सचिव - गव्यसिद्ध डॉ.  नितेश ओझा, डिआईपि व एम.डी.(पञ्चगव्य)
Secretary – Gavyasidh Dr. Nitesh Ojha, Dip (Panchgavya) & MD (Panchgavya).

कोषाध्यक्ष - गव्यसिद्ध डॉ.  अश्विनी कुलकर्णी, एम.डी.(पञ्चगव्य)
Treasurer – Gavyasidh Dr. Ashvini Kulkarni, MD (Panchgavya). 1)

1) अधिशासी सदस्य- गव्यसिद्ध डॉ. मिलिंद जिभकाटे, एम. एससी,  एम.डी.(पञ्चगव्य)
1) Executive Member – Gavyasidh Dr. Milind Jibhkate, M.Sc, MD (Panchgavya)

2) अधिशासी सदस्य - गव्यसिद्ध डॉ. सुरेश गरड, एम. फार्मा (बीट्स),  एम.डी.(पञ्चगव्य)
2) Executive Member – Gavyasidh Dr. Suresh Garad, M.Farma.(Bits), MD (Panchgavya) 3)

3) अधिशासी सदस्य- गव्यसिद्ध डॉ. मदनसिंह कुशवाहा, डिआईपि (इलेक्ट्रिकल),  एम.डी.(पञ्चगव्य)
3) Executive Member – Gavyasidh Dr. Madan Singh Kushawaha, Dip (Elec.) MD (Panchgavya)

4) अधिशासी सदस्य- गव्यसिद्ध डॉ. दामोदर शेट्टी, एम.बी.ए.,  एम.डी.(पञ्चगव्य)
4) Executive Member – Gavyasidh Dr. Damodar Shetty, MBA, MD (Panchgavya)

क़ानूनी सलाहकार – अधिवक्ता ए. कुमरन, एम कॉम, एम बी ए, एम.एस.सी.(योगा), बी.एल., पीजी डीएसटी, पीजीडीवाईएन, पीजीडीएलएम, सी एल आई एससी. (मद्रास हाई कोर्ट)
Legal Adviser – Advocate A. Kumuran, M.com, MBA, M.Sc (Yoga), B.L., PGDST, PGDYN, PGDLM, CLISc. (Madras High Court) चिकित्सा

सलाहकार – डॉ. जी. मणि, एम.डी.(सेल), पी एच डी, एफडब्लू एस ए एम, पी जी डीजीसी, एफ आर एच एस, एम आई एच एम एफ, प्राचार्य – आयुर्वेदिक इंडस्ट्रियल स्कूल, मदुरै, तमिलनाडु.
Medical Adviser – Dr. G. Mani, MD (Cell), Phd., FWSAM, PGDCG, FRHM, MIHMF, Principal – Ayurvedik Industrial School, Madurai, TN.

Comments are closed.

website design and development service by Weblife India